Thursday, Sep 18th

अंतिम अपडेट:05:24:29 AM IST

बिंग को टक्कर देने गूगल ने शुरू की दो नई सेवाएँ

Print PDF
google-real-time-searchगूगल खोज बनी "रीयल टाइम"

गूगल पहले से ही नम्बर एक सर्च इंजिन है और इसकी एक वजह यह भी है कि इस सर्च इंजिन ने समय के साथ चलते हुए खुद को लगातार अपडेट किया है. जहाँ पहले सर्च इंजिन महिने में एक बार किसी साइट पर क्राउल किया करते थे, वहीं अब हर कुछ मिनट के बाद क्राउलिंग की जाती है.

लेकिन गूगल अब "रीयल टाइम" सर्च सुविधा जोड़ने जा रहा है. रीयल टाइम सर्च सुविधा यानी - जैसे ही कोई सामग्री वेब पर प्रकाशित हुई वैसे ही वह आपको गूगल खोज में दिखाई दे जाएगी.

गूगल ने करीब दो महिने माइक्रोब्लोगिंग सेवा ट्विटर से समझौता किया था. इस समझौते के तहत ट्विटर पर प्रकाशित हो रही ट्विटस को गूगल अपने खोज इंजिन में शामिल करने वाला था. ट्विटर के अलावा गूगल ने फेसबुक, फ्रेंड्सफीड और आईडेंटिका जैसी कई अन्य सोश्यल नेटवर्किंग साइटों के साथ भी गठबंधन किया है, जिसके फलस्वरूप अब इन साइटों पर प्रकाशित हो रही जानकारियाँ गूगल "रीयल टाइम" सर्च के माध्यम से दे रहा है.

गूगल पर किसी भी विषय पर खोज करने पर एक "रीयल टाइम" खोज का विकल्प दिखेगा. इससे गूगल का पन्ना स्टेटिक नहीं रहेगा और लगातार अपडेट होता रहेगा. उदाहरण के लिए मान लीजिए आपने "कोपेनहैगन सम्मेलन" सर्च किया तो रीयल टाइम खोज देखने पर ट्विटर, फेसबुक तथा अन्य संजालों पर लगातार प्रकाशित हो रही सामग्री गूगल पर दिखाई देने लगेगी. प्रयोक्ता चाहें तो इन अपडेट को "पाउज़" भी कर पाएंगे.

गूगल की रीयल टाइम खोज सेवा निसंदेह बेहतरीन है और इससे प्रयोक्ताओं को एकदम नई जानकारी तेजी से मिला करेगी.



गूगल गोगल, अब शब्दों से नहीं चित्रों से खोज कीजिए

मान लीजिए आप विदेश में कहीं घूमने गए और किसी स्थान पर स्थित कोई कलाकृति आपको बहुत पसंद आ गई. लेकिन उस कलाकृति के बारे में जानकारी वहाँ नहीं दी गई है. तो आप क्या करेंगे?

यदि आपके पास कोई स्मार्टफोन है तो आप गूगल की मदद ले पाएंगे. आपको करना बस इतना होगा कि अपने मोबाइल कैमेरे से उस कलाकृति की तस्वीर लेकर गूगल की नई सेवा गूगल गोगल पर अपलोड करनी होगी और गूगल आपको बता देगा कि वह कलाकृति किसकी है और किसने बनाई है.

इसके अलावा किसी इमारत, स्थान आदि की भी तस्वीर लेकर गूगल गोगल की मदद से उसके बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है.

गूगल ने अपने गोगल सिस्टम में लाखों तस्वीरों का एक डेटाबेस तैयार किया है. आपके द्वारा अपलोड की जाने वाली तस्वीर का मिलान पहले से संग्रहित तस्वीरों के साथ किया जाता है और उस हिसाब से जानकारी प्रदान की जाती है.
BLOG COMMENTS POWERED BY DISQUS